Sanjay Raut Exclusive: हनुमान चालीसा विवाद पर संजय राउत ने दिए तमाम सवालों के जवाब, बताया नवनीत राणा पर क्यों लगा राजद्रोह

Sanjay Raut on Navneet Rana Sedition case: महाराष्ट्र में हनुमान चालीसा और लाउडस्पीकर को लेकर राजनीति गरम है. इस मामले में निर्दलीय सांसद नवनीत राणा और उनके पति भी गिरफ्तार किए गए हैं. इस पूरे मामले को लेकर शिवसेना नेता संजय राउत ने एबीपी न्यूज़ के साथ खास बातचीत की. इस दौरान उन्होंने नवनीत राणा को गिरफ्तार किए जाने और इस पूरे विवाद को लेकर तमाम सवालों के जवाब दिए.  कांग्रेस-एनसीपी के समर्थन से जीतीं नवनीत राणा - राउतनवनीत राणा ने दिल्ली पुलिस कमिश्नर को एक शिकायत दी है, जिसमें उन्होंने कहा है कि संजय राउत के उकसाने पर शिवसेना कार्यकर्ताओं ने उन्हें धमकी दी और उन्हें गाली गलौच की है. इस पर संजय राउत ने कहा कि, ये जो अमरावती वाली हमारी सांसद हैं वो निर्दलीय नहीं हैं. उस वक्त कांग्रेस और एनसीपी के समर्थन से वो चुनकर आई है. उनके प्रचार के लिए शरद पवार समेत कई बड़े नेता गए थे. वो अब जय श्री राम के नारे दे रही हैं. लेकिन अगर उनके पुराने भाषण देखें तो उन्होंने जय श्री राम का विरोध किया था.  सांसद और उनके पति ने दी थी धमकीसंजय राउत ने कहा कि, कोई किसी को नहीं धमका रहा है. मैं तो उस वक्त मुंबई में भी नहीं था. जब ये महाभारत चल रहा था, उस दौरान संजय राउत मुंबई में नहीं था. वो एक तो मुख्यमंत्री का नाम ले रही हैं या फिर मेरा नाम लिया जा रहा है. धमकियां उनके और उनके पति की तरफ से दी गईं. बोला कि मैं मातोश्री में घुसूंगीं, मैं ऐसा करूंगी. मुख्यमंत्री के लिए ऐसे शब्दों का इस्तेमाल गलत है. ये ठीक वैसा है कि उल्टा चोर कोतवाल को डांटता है.  राजद्रोह लगाने पर भी दिया जवाबनवनीत राणा के खिलाफ राजद्रोह लगाने को लेकर संजय राउत ने कहा कि, हनुमान चालीसा पढ़ने को लेकर राजद्रोह नहीं लगाया गया. ये अभी रामभक्त बनी हैं. मातोश्री के सामने आकर हनुमान चालीसा पढ़ने का क्या मतलब है? नवनीत राणा एक प्यादा है, उसके पीछे कई और लोग हैं. राउत ने नवनीत राणा के डी कंपनी के साथ कनेक्शन का जिक्र किया. उन्होंने कहा कि, अगर मुंबई में लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति को कंट्रोल करने के लिए फैसले लिए जाते हैं तो इसमें डरने की बात नहीं है.  Jammu Kashmir: उमर अब्दुल्ला का केंद्र पर बड़ा आरोप - इफ्तार के वक्त काटी जा रही है बिजली, लाउडस्पीकर विवाद का भी किया जिक्र Prashant Kishor: कांग्रेस के क्यों नहीं हुए प्रशांत किशोर, जानिए पर्दे के पीछे की पूरी कहानी

Sanjay Raut Exclusive: हनुमान चालीसा विवाद पर संजय राउत ने दिए तमाम सवालों के जवाब, बताया नवनीत राणा पर क्यों लगा राजद्रोह

Sanjay Raut on Navneet Rana Sedition case: महाराष्ट्र में हनुमान चालीसा और लाउडस्पीकर को लेकर राजनीति गरम है. इस मामले में निर्दलीय सांसद नवनीत राणा और उनके पति भी गिरफ्तार किए गए हैं. इस पूरे मामले को लेकर शिवसेना नेता संजय राउत ने एबीपी न्यूज़ के साथ खास बातचीत की. इस दौरान उन्होंने नवनीत राणा को गिरफ्तार किए जाने और इस पूरे विवाद को लेकर तमाम सवालों के जवाब दिए. 

कांग्रेस-एनसीपी के समर्थन से जीतीं नवनीत राणा - राउत
नवनीत राणा ने दिल्ली पुलिस कमिश्नर को एक शिकायत दी है, जिसमें उन्होंने कहा है कि संजय राउत के उकसाने पर शिवसेना कार्यकर्ताओं ने उन्हें धमकी दी और उन्हें गाली गलौच की है. इस पर संजय राउत ने कहा कि, ये जो अमरावती वाली हमारी सांसद हैं वो निर्दलीय नहीं हैं. उस वक्त कांग्रेस और एनसीपी के समर्थन से वो चुनकर आई है. उनके प्रचार के लिए शरद पवार समेत कई बड़े नेता गए थे. वो अब जय श्री राम के नारे दे रही हैं. लेकिन अगर उनके पुराने भाषण देखें तो उन्होंने जय श्री राम का विरोध किया था. 

सांसद और उनके पति ने दी थी धमकी
संजय राउत ने कहा कि, कोई किसी को नहीं धमका रहा है. मैं तो उस वक्त मुंबई में भी नहीं था. जब ये महाभारत चल रहा था, उस दौरान संजय राउत मुंबई में नहीं था. वो एक तो मुख्यमंत्री का नाम ले रही हैं या फिर मेरा नाम लिया जा रहा है. धमकियां उनके और उनके पति की तरफ से दी गईं. बोला कि मैं मातोश्री में घुसूंगीं, मैं ऐसा करूंगी. मुख्यमंत्री के लिए ऐसे शब्दों का इस्तेमाल गलत है. ये ठीक वैसा है कि उल्टा चोर कोतवाल को डांटता है. 

राजद्रोह लगाने पर भी दिया जवाब
नवनीत राणा के खिलाफ राजद्रोह लगाने को लेकर संजय राउत ने कहा कि, हनुमान चालीसा पढ़ने को लेकर राजद्रोह नहीं लगाया गया. ये अभी रामभक्त बनी हैं. मातोश्री के सामने आकर हनुमान चालीसा पढ़ने का क्या मतलब है? नवनीत राणा एक प्यादा है, उसके पीछे कई और लोग हैं. राउत ने नवनीत राणा के डी कंपनी के साथ कनेक्शन का जिक्र किया. उन्होंने कहा कि, अगर मुंबई में लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति को कंट्रोल करने के लिए फैसले लिए जाते हैं तो इसमें डरने की बात नहीं है. 

Jammu Kashmir: उमर अब्दुल्ला का केंद्र पर बड़ा आरोप - इफ्तार के वक्त काटी जा रही है बिजली, लाउडस्पीकर विवाद का भी किया जिक्र

Prashant Kishor: कांग्रेस के क्यों नहीं हुए प्रशांत किशोर, जानिए पर्दे के पीछे की पूरी कहानी