PM Modi ने European Commission की अध्यक्ष उर्सुला वॉन लेयेन से की बात, व्यापार-जलवायु समेत इन मुद्दों पर हुई चर्चा

PM Modi European Commission President Meet: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और यूरोपीय आयोग (European Commission) की अध्यक्ष उर्सुला वॉन डेर लेयेन (Ursula von der Leyen) के बीच नई दिल्ली में बातचीत हुई. इस दौरान उन्होंने वाइब्रेंट इंडिया-ईयू स्ट्रेटजिक पार्टनरशिप (vibrant India-EU Strategic Partnership) की भी समीक्षा की. विदेश मंत्रालय ने बताया कि चर्चा के दौरान व्यापारिक क्षेत्र में संबंधों को गहरा करने, जलवायु परिवर्तन (Climate Change), डिजिटल प्रौद्योगिकी (Digital Technology) और लोगों से लोगों के बीच संपर्क (People to People connect) स्थापित करने पर समझौता हुआ है. यूरोपीय परिषद की अध्यक्ष ने कहा कि यह साल यूरोपीय संघ-भारतीय संबंधों की 60वीं वर्षगांठ मना रहा है और मैं ऐसा मानता हूं कि आज यह संबंध पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण हैं. उन्होंने बताया कि हम वाइब्रेंट डेमोक्रेसीज, बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के सथ ही कई चीजें हमारे बीच सामान्य है लेकिन कुछ चुनौतियां भी हैं. इसलिए इस मुलाकात की सराहना करती हूं. PM Narendra Modi held talks with European Commission president Ursula von der Leyen in New Delhi today. They reviewed progress in vibrant India-EU Strategic Partnership & agreed to deepen cooperation in areas of trade, climate, digital technology & people-to-people ties: EAM spox pic.twitter.com/4oGx9DcA1v — ANI (@ANI) April 25, 2022 उर्सुला वॉन ने आगे कहा कि ईयू के पास सिर्फ एक ट्रेड एंड टेक्नोलॉजी काउंसिल है और वह अमेरिका के साथ है. मैं ऐसा मानती हूं कि इसलिए यह समय है जब हमारे लिए यह महत्वपूर्ण है कि दूसरे ट्रेड एंड टेक्नोलॉजी भारत के साथ हो. हमारे पास एक तकनीकी शक्ति के रूप में भारत है.  ये भी पढ़ें: ABP EXCLUSIVE: अलवर में गौशाला पर बुलडोजर चलाए जाने का कौन है दोषी?

PM Modi ने European Commission की अध्यक्ष उर्सुला वॉन लेयेन से की बात, व्यापार-जलवायु समेत इन मुद्दों पर हुई चर्चा

PM Modi European Commission President Meet: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और यूरोपीय आयोग (European Commission) की अध्यक्ष उर्सुला वॉन डेर लेयेन (Ursula von der Leyen) के बीच नई दिल्ली में बातचीत हुई. इस दौरान उन्होंने वाइब्रेंट इंडिया-ईयू स्ट्रेटजिक पार्टनरशिप (vibrant India-EU Strategic Partnership) की भी समीक्षा की. विदेश मंत्रालय ने बताया कि चर्चा के दौरान व्यापारिक क्षेत्र में संबंधों को गहरा करने, जलवायु परिवर्तन (Climate Change), डिजिटल प्रौद्योगिकी (Digital Technology) और लोगों से लोगों के बीच संपर्क (People to People connect) स्थापित करने पर समझौता हुआ है.

यूरोपीय परिषद की अध्यक्ष ने कहा कि यह साल यूरोपीय संघ-भारतीय संबंधों की 60वीं वर्षगांठ मना रहा है और मैं ऐसा मानता हूं कि आज यह संबंध पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण हैं. उन्होंने बताया कि हम वाइब्रेंट डेमोक्रेसीज, बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के सथ ही कई चीजें हमारे बीच सामान्य है लेकिन कुछ चुनौतियां भी हैं. इसलिए इस मुलाकात की सराहना करती हूं.

उर्सुला वॉन ने आगे कहा कि ईयू के पास सिर्फ एक ट्रेड एंड टेक्नोलॉजी काउंसिल है और वह अमेरिका के साथ है. मैं ऐसा मानती हूं कि इसलिए यह समय है जब हमारे लिए यह महत्वपूर्ण है कि दूसरे ट्रेड एंड टेक्नोलॉजी भारत के साथ हो. हमारे पास एक तकनीकी शक्ति के रूप में भारत है. 

ये भी पढ़ें: ABP EXCLUSIVE: अलवर में गौशाला पर बुलडोजर चलाए जाने का कौन है दोषी?