Lockdown in China: लॉकडाउन के खिलाफ लोगों की आवाज दबाने के लिए अपने ही राष्ट्रगान को सेंसर कर रहा है चीन

Lockdown in China: चीन में इंटरनेट सेंसर ने देश के राष्ट्रगान पर ही शिकंजा कस दिया है, जिसका इस्तेमाल शंघाई जैसे शहरों में कड़े लॉकडाउन के विरोध में निवासियों द्वारा किया जा रहा था. चीनी लोग रचनात्मक तरीकों और हैशटैग का उपयोग यह बताने के लिए कर रहे हैं कि बंद शहरों के निवासी किस स्थिति में रह रहे हैं. चीन ने 1978 से अपने राष्ट्रगान के रूप में "मार्च ऑफ द वॉलंटियर्स" का इस्तेमाल किया है. इसके प्रसिद्ध शब्द "उठो, ये जो गुलाम होने से इनकार करते हैं" वीकेंड में संक्षिप्त रूप से चलन में थे क्योंकि शंघाई और अन्य शहरों के निवासियों ने सार्वजनिक स्वास्थ्य उपाय के खराब कार्यान्वयन की आलोचना करने के लिए राष्ट्र गान का इस्तेमाल किया था. न्यूजवीक की एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई. लेकिन जिस लाइन को हैशटैग के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा था, उस पर तुरंत बैन लगा दिया गया. चीन लागू कर रहा है"जीरो कोविड" पॉलिसीचीन अपनी "जीरो कोविड" पॉलिसी लगातार जारी रख रहा है. शंघाई में सख्त लॉकडाउन लागू किया गया और इसके विरोध में आवाज उठाने वालों को चेतावनी दी जा रही है. अपार्टमेंट में रहने वालों को चेतावनी जारी करने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल किया गया है और रोबोट कुत्ते शहर की सड़कों पर गश्त कर रहे हैं. शंघाई के निवासी उन लोगों की कहानियां पोस्ट कर रहे हैं जो या तो कोविड के कारण मर गए हैं या लॉकडाउन के कारण उचित स्वास्थ्य देखभाल प्राप्त नहीं कर रहे हैं. दुनिया को केवल वे वीडियो देखने को मिलते हैं, जिन्होंने ट्विटर और अन्य अंतरराष्ट्रीय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर जगह बनाई है. वीचैट और वीबो पोस्ट जल्दी से हटा दिए जाते हैं. यह भी पढ़ें: शंघाई: लॉकडाउन में धीरे-धीरे दी जा रही ढील, अधिकारियों का वादा- फूड सप्लाई की जाएगी बेहतर मॉस्को-टोक्यो संबंधों में आई दरार, जापान ने कहा- चार विवादितों द्वीपों पर रूस का है अवैध कब्जा

Lockdown in China:  लॉकडाउन के खिलाफ लोगों की आवाज दबाने के लिए अपने ही राष्ट्रगान को सेंसर कर रहा है चीन

Lockdown in China: चीन में इंटरनेट सेंसर ने देश के राष्ट्रगान पर ही शिकंजा कस दिया है, जिसका इस्तेमाल शंघाई जैसे शहरों में कड़े लॉकडाउन के विरोध में निवासियों द्वारा किया जा रहा था. चीनी लोग रचनात्मक तरीकों और हैशटैग का उपयोग यह बताने के लिए कर रहे हैं कि बंद शहरों के निवासी किस स्थिति में रह रहे हैं.

चीन ने 1978 से अपने राष्ट्रगान के रूप में "मार्च ऑफ द वॉलंटियर्स" का इस्तेमाल किया है. इसके प्रसिद्ध शब्द "उठो, ये जो गुलाम होने से इनकार करते हैं" वीकेंड में संक्षिप्त रूप से चलन में थे क्योंकि शंघाई और अन्य शहरों के निवासियों ने सार्वजनिक स्वास्थ्य उपाय के खराब कार्यान्वयन की आलोचना करने के लिए राष्ट्र गान का इस्तेमाल किया था. न्यूजवीक की एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई. लेकिन जिस लाइन को हैशटैग के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा था, उस पर तुरंत बैन लगा दिया गया.

चीन लागू कर रहा है"जीरो कोविड" पॉलिसी
चीन अपनी "जीरो कोविड" पॉलिसी लगातार जारी रख रहा है. शंघाई में सख्त लॉकडाउन लागू किया गया और इसके विरोध में आवाज उठाने वालों को चेतावनी दी जा रही है. अपार्टमेंट में रहने वालों को चेतावनी जारी करने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल किया गया है और रोबोट कुत्ते शहर की सड़कों पर गश्त कर रहे हैं.

शंघाई के निवासी उन लोगों की कहानियां पोस्ट कर रहे हैं जो या तो कोविड के कारण मर गए हैं या लॉकडाउन के कारण उचित स्वास्थ्य देखभाल प्राप्त नहीं कर रहे हैं. दुनिया को केवल वे वीडियो देखने को मिलते हैं, जिन्होंने ट्विटर और अन्य अंतरराष्ट्रीय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर जगह बनाई है. वीचैट और वीबो पोस्ट जल्दी से हटा दिए जाते हैं.

यह भी पढ़ें:

शंघाई: लॉकडाउन में धीरे-धीरे दी जा रही ढील, अधिकारियों का वादा- फूड सप्लाई की जाएगी बेहतर

मॉस्को-टोक्यो संबंधों में आई दरार, जापान ने कहा- चार विवादितों द्वीपों पर रूस का है अवैध कब्जा