Google Doodle ने आज इराक की इस मशहूर पेंटर को किया याद, जानें कौन थीं Naziha Salim

Google Doodle: गूगल ने आज 23 अप्रैल को डूडल के जरिए नाजिहा सलीम को याद किया है. प्रभावशाली कलाकारों में से एक नाजिहा चित्रकार और प्रोफेसर थीं. बताया जाता है कि नाजिहा ने अपनी कला से ग्रामीण इराकी महिलाओं के जीवन को दर्शाया था.  आज गूगल के डूडल पर ध्यान से नजर डालें तो इसमें दो अलग तस्वीरें दिखाई दे रही हैं. एक तस्वीर में नाजिहा सलीम हैं जिसमें उनके हाथ में पेंट ब्रश दिख रहा है तो दूसरी ओर उनकी पेटिंग की झलक दिख रही है. बता दें, नाजिहा का जन्म सन 1927 में इंस्ताबुल में हुआ था. नाजिहा के तीन भाई थे जो कला के क्षेत्र में काम करते थे. साथ ही उनके पिता भी एक चित्रकार हुआ करते थे और माता कढ़ाई का काम करती थीं. प्रसिद्ध कलाकारों के रूप में याद किया जाता बताया जाता है कि नाजिहा ने फाइन आर्ट्स से स्नातक की तालीम हासिल की है. नाजिहा अपनी कला और मेहनत से ऐसी पहली महिला बनीं जो पेरिस के इकोले नेशनल सुप्रीयर डस बीक्स-आर्ट्स में आगे की पढ़ाई के लिए सम्मानित की गई. नाजिहा कुछ सालो बाद बगदाद लौटीं. नाजिहा को इराक के सबसे प्रसिद्ध कलाकारों के रूप में याद किया जाता है. बता दें, साल 2008, 15 जनवरी को उनका निधन हो गया था.  यह भी पढ़ें. Russia-Ukraine War: संयुक्त राष्ट्र का बड़ा बयान- युद्ध अपराध की श्रेणी में आ सकती हैं यूक्रेन में रूसी कार्रवाइयां मॉस्को-टोक्यो संबंधों में आई दरार, जापान ने कहा- चार विवादितों द्वीपों पर रूस का है अवैध कब्जा

Google Doodle ने आज इराक की इस मशहूर पेंटर को किया याद, जानें कौन थीं Naziha Salim

Google Doodle: गूगल ने आज 23 अप्रैल को डूडल के जरिए नाजिहा सलीम को याद किया है. प्रभावशाली कलाकारों में से एक नाजिहा चित्रकार और प्रोफेसर थीं. बताया जाता है कि नाजिहा ने अपनी कला से ग्रामीण इराकी महिलाओं के जीवन को दर्शाया था. 

आज गूगल के डूडल पर ध्यान से नजर डालें तो इसमें दो अलग तस्वीरें दिखाई दे रही हैं. एक तस्वीर में नाजिहा सलीम हैं जिसमें उनके हाथ में पेंट ब्रश दिख रहा है तो दूसरी ओर उनकी पेटिंग की झलक दिख रही है. बता दें, नाजिहा का जन्म सन 1927 में इंस्ताबुल में हुआ था. नाजिहा के तीन भाई थे जो कला के क्षेत्र में काम करते थे. साथ ही उनके पिता भी एक चित्रकार हुआ करते थे और माता कढ़ाई का काम करती थीं.


प्रसिद्ध कलाकारों के रूप में याद किया जाता

बताया जाता है कि नाजिहा ने फाइन आर्ट्स से स्नातक की तालीम हासिल की है. नाजिहा अपनी कला और मेहनत से ऐसी पहली महिला बनीं जो पेरिस के इकोले नेशनल सुप्रीयर डस बीक्स-आर्ट्स में आगे की पढ़ाई के लिए सम्मानित की गई. नाजिहा कुछ सालो बाद बगदाद लौटीं. नाजिहा को इराक के सबसे प्रसिद्ध कलाकारों के रूप में याद किया जाता है. बता दें, साल 2008, 15 जनवरी को उनका निधन हो गया था. 

यह भी पढ़ें.

Russia-Ukraine War: संयुक्त राष्ट्र का बड़ा बयान- युद्ध अपराध की श्रेणी में आ सकती हैं यूक्रेन में रूसी कार्रवाइयां

मॉस्को-टोक्यो संबंधों में आई दरार, जापान ने कहा- चार विवादितों द्वीपों पर रूस का है अवैध कब्जा