Dhanbad News: धनबाद में जमीन धंसने से सड़क में दरारें, इलाके में दहशत, कोई हताहत नहीं

Jharkhand News: धनबाद (Dhanbad) जिले के निरसा (Nirsa) विधानसभा के अंतर्गत चिरकुंडा डुमरजोड़ में भू-धसान की एक बड़ी घटना हुई है. जिससे 15-20 मीटर के क्षेत्र में जमीन का बड़ा हिस्सा धंस गया है और सड़क पर दरारें पड़ गई है. स्थानीय लोग घटना की मुख्य वजह अवैध कोयला उत्खनन (Illegal Coal Mining) को बता रहे हैं. साथ ही कई लोगों के दबे होने की बात भी कही जा रही है. इस घटना से पूरे इलाके में दहशत का माहौल है. घटना से गुस्साए लोग दोषी लोगों के विरूद्ध कार्रवाई की मांग कर रहे हैं.  क्या बोली पुलिस?घटना की खबर पर स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंची और मामले में स्थानीय लोगों से भी जानकारी ली. चिरकुंडा थाना प्रभारी ने बताया कि यह पूरी तरह से भूधसान का मामला है. जहां ग्रामीण सड़क कई फिट फटते हुए नीचे धंस गई है. पुलिस ने किसी तरह के अवैध माइंस दुर्घटना होने या किसी के हताहत होने की खबर से साफ इंकार किया है. Jharkhand Forest Fire: झारखंड के जंगलों में लगी आग वन्यजीवों के लिए खतरा, पलायन की मजबूरी क्या बोले एसडीएम?सड़क मार्ग में भूधसान की घटना के बाद से ही ग्रामीणों के द्वारा विरोध हो रहा है. जिसके बाद धनबाद जिला प्रशासन की पहल पर बीसीसीएल कोयला कंपनी की रेस्क्यू टीम को मौके पर बुलाकर मामले में छानबीन शुरू की गई, ताकि रेस्क्यू टीम घटना स्थल के पास कोयला माइंस के अंदर जाकर पूरी वस्तुस्थिति को समझे और किसी के हताहत होने की स्थिति में रेस्क्यू कर उन्हें बाहर निकाले. मौके पर पहुंचे धनबाद एसडीएम ने बताया कि लोगों ने कुछ लोगों के दबे होने की आशंका जताई, जिसको देखते हुए रेस्क्यू टीम को मौके पर लगाया गया. सब-साइडेड एरिया है घोषितरेस्क्यू टीम ने माइंस के अंदर पूरे क्षेत्र का जायजा लिया लेकिन किसी के हताहत होने की पुष्टि नहीं हुई. गौरतलब है कि इस क्षेत्र में कोल इंडिया की माइंस चला करती थी, जो अभी बंद पड़ी है. बताया जा रहा है कि माइंस में ब्लास्टिंग के कारण पूर्व में इस क्षेत्र को सब साइडेड एरिया घोषित किया जा चुका है. ये भी पढ़ें- Jharkhand Coal Mine Collapse: धनबाद में अवैध कोयला खनन के दौरान बड़ा हादसा, दर्जनों लोगों के दबने की आशंका

Dhanbad News: धनबाद में जमीन धंसने से सड़क में दरारें, इलाके में दहशत, कोई हताहत नहीं

Jharkhand News: धनबाद (Dhanbad) जिले के निरसा (Nirsa) विधानसभा के अंतर्गत चिरकुंडा डुमरजोड़ में भू-धसान की एक बड़ी घटना हुई है. जिससे 15-20 मीटर के क्षेत्र में जमीन का बड़ा हिस्सा धंस गया है और सड़क पर दरारें पड़ गई है. स्थानीय लोग घटना की मुख्य वजह अवैध कोयला उत्खनन (Illegal Coal Mining) को बता रहे हैं. साथ ही कई लोगों के दबे होने की बात भी कही जा रही है. इस घटना से पूरे इलाके में दहशत का माहौल है. घटना से गुस्साए लोग दोषी लोगों के विरूद्ध कार्रवाई की मांग कर रहे हैं. 

क्या बोली पुलिस?
घटना की खबर पर स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंची और मामले में स्थानीय लोगों से भी जानकारी ली. चिरकुंडा थाना प्रभारी ने बताया कि यह पूरी तरह से भूधसान का मामला है. जहां ग्रामीण सड़क कई फिट फटते हुए नीचे धंस गई है. पुलिस ने किसी तरह के अवैध माइंस दुर्घटना होने या किसी के हताहत होने की खबर से साफ इंकार किया है.

Jharkhand Forest Fire: झारखंड के जंगलों में लगी आग वन्यजीवों के लिए खतरा, पलायन की मजबूरी

क्या बोले एसडीएम?
सड़क मार्ग में भूधसान की घटना के बाद से ही ग्रामीणों के द्वारा विरोध हो रहा है. जिसके बाद धनबाद जिला प्रशासन की पहल पर बीसीसीएल कोयला कंपनी की रेस्क्यू टीम को मौके पर बुलाकर मामले में छानबीन शुरू की गई, ताकि रेस्क्यू टीम घटना स्थल के पास कोयला माइंस के अंदर जाकर पूरी वस्तुस्थिति को समझे और किसी के हताहत होने की स्थिति में रेस्क्यू कर उन्हें बाहर निकाले. मौके पर पहुंचे धनबाद एसडीएम ने बताया कि लोगों ने कुछ लोगों के दबे होने की आशंका जताई, जिसको देखते हुए रेस्क्यू टीम को मौके पर लगाया गया.

सब-साइडेड एरिया है घोषित
रेस्क्यू टीम ने माइंस के अंदर पूरे क्षेत्र का जायजा लिया लेकिन किसी के हताहत होने की पुष्टि नहीं हुई. गौरतलब है कि इस क्षेत्र में कोल इंडिया की माइंस चला करती थी, जो अभी बंद पड़ी है. बताया जा रहा है कि माइंस में ब्लास्टिंग के कारण पूर्व में इस क्षेत्र को सब साइडेड एरिया घोषित किया जा चुका है.

ये भी पढ़ें-

Jharkhand Coal Mine Collapse: धनबाद में अवैध कोयला खनन के दौरान बड़ा हादसा, दर्जनों लोगों के दबने की आशंका