हड्डियों की बीमारी का मोटापे से है गहरा संबंध, हेल्दी लाइफ के लिए ये हैं जरूरी बातें

बढ़ती उम्र और गलत लाइफस्टाइल के कारण मोटापा घेरने लगता है. इस मोटापे से बचने के लिए आपको हर संभव प्रयास करना चाहिए. क्योंकि धीमी गति से बढ़ रहा यह मोटापा आपकी हड्डियों और जोड़ों के लिए कई तरह की समस्याएं खड़ी करने लगता है. अगर आपके जोड़ों में दर्द रहने लगा है और अक्सर आपकी सांस फूल जाती है तो आपको अपने वजन पर एक नजर जरूर डालनी होगी.  क्योंकि ये लक्षण आमतौर पर वजन बढ़ने पर दिखाई देते हैं और जब आप वजन कम कर लेते हैं तब आपको इन समस्याओं से तुरंत राहत मिलती है... घुटनों में दर्द होना कोहनी में दर्द होना  कमर के निचले हिस्से में दर्द होना नसों में जकड़न होना ऑर्थराइटिस मुख्य रूप से दो तरह की होती है, ऑस्टियोऑर्थराटिस और रुमेटाइड ऑर्थराइटिस. इनमें ऑस्टियोऑर्थराइटिस मुख्य रूप से मोटापे की वजह से होती है और इससे दैनिक जीवन के कामकाज करने में भी दिकक्त होने लगती है. मोटापे के अलावा लाइफस्टाइल से जुड़ी कुछ आदतें भी ओस्टियोऑर्थराइटिस की वजह बनती हैं. जैसे, एक्सर्साइज ना करना, सही डायट ना लेना, फ्राइड फूड अधिक खाना इत्यादि. मोटापे के कारण शरीर के इन हिस्सों में बढ़ती है ऑस्टियोऑर्थराइटिस...  कंधा घुटना हिप कोहनी कलाई एंकल कमर ऑस्टियोऑर्थराइटिस में मोटापे के कारण शरीर के उन जॉइंट्स पर वजन अधिक बढ़ने लगता है, जो आपके पूरे शरीर का भार ले रहे होते हैं. ऐसे उन जॉइंट्स और मसल्स में कमजोरी आने लगती है. अगर भारत की बात करें तो यहां के लोगों में घुटने संबंधी ऑस्टियोऑर्थराइटिस अधिक देखने को मिलती है.  ओस्टियोपोरोसिस ओस्टियोपोरोसिस हड्डियों से जुड़ी एक एसी स्थिति है, जिसमें बोन्स के अंदर का लिक्विड और उन्हें सपॉर्ट करने वाली मांसपेशियां, मास-मज्जा इत्यादि सिकुड़ने लगते हैं. इससे हड्डियां कमजोर हो जाती हैं और फ्रैक्चर होने की आंशका कई गुना बढ़ जाती है. कई अलग-अलग रिसर्च में यह बात सामने आई है कि बोन मिनरल डेंसिटी को कम करके हड्डियों को कमजोर बनाने वाली बीमारी ओस्टियोपोरोसिस को बढ़ावा शरीर में बढ़ते हुए फैट के कारण मिलता है. इसलिए ना सिर्फ स्वस्थ शरीर शरीर के लिए बल्कि मजबूत हड्डियों के लिए भी आपको अपने शरीर पर फैट नहीं बढ़ने देना चाहिए.   Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों को केवल सुझाव के रूप में लें, एबीपी न्यूज़ इनकी पुष्टि नहीं करता है. इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें. यह भी पढ़ें: नहीं बिगड़ेगा हाजमा, सफर पर निकलने से पहले साथ लेकर चलें ये घरेलू नुस्खा यह भी पढ़ें: एक ही दवाई से इस तरह ठीक करें सूखी और गीली खांसी    

हड्डियों की बीमारी का मोटापे से है गहरा संबंध, हेल्दी लाइफ के लिए ये हैं जरूरी बातें

बढ़ती उम्र और गलत लाइफस्टाइल के कारण मोटापा घेरने लगता है. इस मोटापे से बचने के लिए आपको हर संभव प्रयास करना चाहिए. क्योंकि धीमी गति से बढ़ रहा यह मोटापा आपकी हड्डियों और जोड़ों के लिए कई तरह की समस्याएं खड़ी करने लगता है. अगर आपके जोड़ों में दर्द रहने लगा है और अक्सर आपकी सांस फूल जाती है तो आपको अपने वजन पर एक नजर जरूर डालनी होगी.  क्योंकि ये लक्षण आमतौर पर वजन बढ़ने पर दिखाई देते हैं और जब आप वजन कम कर लेते हैं तब आपको इन समस्याओं से तुरंत राहत मिलती है...

  • घुटनों में दर्द होना
  • कोहनी में दर्द होना 
  • कमर के निचले हिस्से में दर्द होना
  • नसों में जकड़न होना

ऑर्थराइटिस मुख्य रूप से दो तरह की होती है, ऑस्टियोऑर्थराटिस और रुमेटाइड ऑर्थराइटिस. इनमें ऑस्टियोऑर्थराइटिस मुख्य रूप से मोटापे की वजह से होती है और इससे दैनिक जीवन के कामकाज करने में भी दिकक्त होने लगती है. मोटापे के अलावा लाइफस्टाइल से जुड़ी कुछ आदतें भी ओस्टियोऑर्थराइटिस की वजह बनती हैं. जैसे, एक्सर्साइज ना करना, सही डायट ना लेना, फ्राइड फूड अधिक खाना इत्यादि.

मोटापे के कारण शरीर के इन हिस्सों में बढ़ती है ऑस्टियोऑर्थराइटिस... 

  • कंधा
  • घुटना
  • हिप
  • कोहनी
  • कलाई
  • एंकल
  • कमर

ऑस्टियोऑर्थराइटिस में मोटापे के कारण शरीर के उन जॉइंट्स पर वजन अधिक बढ़ने लगता है, जो आपके पूरे शरीर का भार ले रहे होते हैं. ऐसे उन जॉइंट्स और मसल्स में कमजोरी आने लगती है. अगर भारत की बात करें तो यहां के लोगों में घुटने संबंधी ऑस्टियोऑर्थराइटिस अधिक देखने को मिलती है. 

ओस्टियोपोरोसिस

ओस्टियोपोरोसिस हड्डियों से जुड़ी एक एसी स्थिति है, जिसमें बोन्स के अंदर का लिक्विड और उन्हें सपॉर्ट करने वाली मांसपेशियां, मास-मज्जा इत्यादि सिकुड़ने लगते हैं. इससे हड्डियां कमजोर हो जाती हैं और फ्रैक्चर होने की आंशका कई गुना बढ़ जाती है. कई अलग-अलग रिसर्च में यह बात सामने आई है कि बोन मिनरल डेंसिटी को कम करके हड्डियों को कमजोर बनाने वाली बीमारी ओस्टियोपोरोसिस को बढ़ावा शरीर में बढ़ते हुए फैट के कारण मिलता है. इसलिए ना सिर्फ स्वस्थ शरीर शरीर के लिए बल्कि मजबूत हड्डियों के लिए भी आपको अपने शरीर पर फैट नहीं बढ़ने देना चाहिए.

 

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों को केवल सुझाव के रूप में लें, एबीपी न्यूज़ इनकी पुष्टि नहीं करता है. इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें.

यह भी पढ़ें: नहीं बिगड़ेगा हाजमा, सफर पर निकलने से पहले साथ लेकर चलें ये घरेलू नुस्खा

यह भी पढ़ें: एक ही दवाई से इस तरह ठीक करें सूखी और गीली खांसी