क्या है हमिंग मैडिटेशन? जानिए आपका गुनगुनाना शरीर के लिए है कितना फायदेमंद

अक्सर आपने कई लोगों को देखा होगा कि वह काम करते समय गुनगुनाते रहते हैं, खाते समय, खाना बनाते समय, लैपटॉप पर काम करते समय, नहाते समय, वॉक करते समय या जब समय मिले. आपने भी अपनी लाइफ में कई बार ऐसा किया होगा. दरअसल लोग यह तब करते हैं जब वह पुरानी यादें ताजा करते हैं या किसी बात को लेकर बेहद खुश महसूस कर रहे होते हैं. आपको बता दें इस तरह से गुनगुनाने को "हमिंग मेडिडेशन" कहा जाता है. दरअसल लोगों को यह करने से क्या फायदा मिलता है उसके बारे में कोई अनुभव नहीं है, लेकिन आपको बता दें, आपकी यह आदत आपकी सेहत के लिए फायदेमंद हो सकती है. ऐसा करने से शरीर को तरह-तरह के लाभ मिलते हैं और यह फायदेमंद भी साबित होते हैं. जब आप इस तरह से गुनगुनाते हैं तो आप खुश, तरोताजा और हल्का महसूस करते हैं. इतना ही नहीं, बल्कि ऐसे करने से काम करने में मन भी लगा रहता है और बिना आलस के काम जल्दी से हो जाता है. जानते हैं हमिंग मैडिटेशन क्या होता है, उसे कैसे किया जाता है और इसे करने से शरीर को कौन से फायदे मिलते हैं. हमिंग मैडिटेशन क्या होता है दरअसल हमिंग मेडिटेशन ध्यान लगाने को माना जाता है. जब आप गुनगुनाते हैं तभी आपका ध्यान कहीं और होता है और आप गुनगुनाते रहते हैं. इसी को ध्यान लगाना कहा जाता है. जब आप गुनगुनाते हैं तो आपका शरीर कंपन करना शुरू कर देता है. खासकर आपके मस्तिष्क की कोशिकाएं कंपन करने लगती हैं. ऐसे में मस्तिष्क का सारा तनाव दूर हो जाता है, जिसके कारण आप आनंद महसूस करते हैं. ऐसे में अक्सर जब आप गुनगुनाते हैं तो थकान दूर हो जाती है. हमिंग मैडिटेशन के फायदे 1- इसे करने से तनाव कम होता है और शरीर को आराम महसूस होता है. 2- यह ब्लड प्रेशर को सही रखने में शरीर की मदद करता है 3- यह शरीर में उच्च तनाव पैदा करने वाले हार्मोंस को कम करता है. 4- इसे करने से नींद बहुत अच्छी आती है और बेचैनी नहीं महसूस होती है 5- यह इम्यूनिटी बढ़ाता है और सभी परेशानियों से दूर करता है  6- इसे करने से क्रिएटिविटी बढ़ती है 7- यह स्मरण शक्ति में बढ़ाने में शरीर की मदद करता है हमिंग मेडिडेशन करने का सही तरीका 1- सबसे पहले किसी शांत कोने में एक मैट पर अपनी रीढ़ और गर्दन को सीधा करके आराम से बैठें  2- अब अपनी आंखों बंद करें और ग़हरी सांसें लें 3- अब होठों को बंद करें और गहरी सांस अंदर लें और धीरे-धीरे गुनगुनाते हुए अपनी नाक से धीरे-धीरे सांस छोड़ना शुरू करें. ध्यान रहे कि सांस छोड़ते हुए आप अंत तक गुनगुनाते रहें 4-  जैसे ही आप पूरी सांस छोड़ देंगे तो  एक गहरी सांस लें और ज़ोर से गुनगुनाते हुए सांस छोड़ना जारी रखें 5-  इसे आप 1 मिनट के लिए करें और लगभग 15- 20 मिनट तक करें Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों की एबीपी न्यूज़ पुष्टि नहीं करता है. इनको केवल सुझाव के रूप में लें. इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें. ये भी पढ़ें: गर्मी में दिमाग को रखना है ठंडा तो इस तेल से करें मसाज, मिलेंगे कई फायदे

क्या है हमिंग मैडिटेशन? जानिए आपका गुनगुनाना शरीर के लिए है कितना फायदेमंद

अक्सर आपने कई लोगों को देखा होगा कि वह काम करते समय गुनगुनाते रहते हैं, खाते समय, खाना बनाते समय, लैपटॉप पर काम करते समय, नहाते समय, वॉक करते समय या जब समय मिले. आपने भी अपनी लाइफ में कई बार ऐसा किया होगा. दरअसल लोग यह तब करते हैं जब वह पुरानी यादें ताजा करते हैं या किसी बात को लेकर बेहद खुश महसूस कर रहे होते हैं. आपको बता दें इस तरह से गुनगुनाने को "हमिंग मेडिडेशन" कहा जाता है. दरअसल लोगों को यह करने से क्या फायदा मिलता है उसके बारे में कोई अनुभव नहीं है, लेकिन आपको बता दें, आपकी यह आदत आपकी सेहत के लिए फायदेमंद हो सकती है. ऐसा करने से शरीर को तरह-तरह के लाभ मिलते हैं और यह फायदेमंद भी साबित होते हैं.

जब आप इस तरह से गुनगुनाते हैं तो आप खुश, तरोताजा और हल्का महसूस करते हैं. इतना ही नहीं, बल्कि ऐसे करने से काम करने में मन भी लगा रहता है और बिना आलस के काम जल्दी से हो जाता है. जानते हैं हमिंग मैडिटेशन क्या होता है, उसे कैसे किया जाता है और इसे करने से शरीर को कौन से फायदे मिलते हैं.

हमिंग मैडिटेशन क्या होता है

दरअसल हमिंग मेडिटेशन ध्यान लगाने को माना जाता है. जब आप गुनगुनाते हैं तभी आपका ध्यान कहीं और होता है और आप गुनगुनाते रहते हैं. इसी को ध्यान लगाना कहा जाता है. जब आप गुनगुनाते हैं तो आपका शरीर कंपन करना शुरू कर देता है. खासकर आपके मस्तिष्क की कोशिकाएं कंपन करने लगती हैं. ऐसे में मस्तिष्क का सारा तनाव दूर हो जाता है, जिसके कारण आप आनंद महसूस करते हैं. ऐसे में अक्सर जब आप गुनगुनाते हैं तो थकान दूर हो जाती है.

हमिंग मैडिटेशन के फायदे

1- इसे करने से तनाव कम होता है और शरीर को आराम महसूस होता है.

2- यह ब्लड प्रेशर को सही रखने में शरीर की मदद करता है

3- यह शरीर में उच्च तनाव पैदा करने वाले हार्मोंस को कम करता है.

4- इसे करने से नींद बहुत अच्छी आती है और बेचैनी नहीं महसूस होती है

5- यह इम्यूनिटी बढ़ाता है और सभी परेशानियों से दूर करता है 

6- इसे करने से क्रिएटिविटी बढ़ती है

7- यह स्मरण शक्ति में बढ़ाने में शरीर की मदद करता है

हमिंग मेडिडेशन करने का सही तरीका

1- सबसे पहले किसी शांत कोने में एक मैट पर अपनी रीढ़ और गर्दन को सीधा करके आराम से बैठें 

2- अब अपनी आंखों बंद करें और ग़हरी सांसें लें

3- अब होठों को बंद करें और गहरी सांस अंदर लें और धीरे-धीरे गुनगुनाते हुए अपनी नाक से धीरे-धीरे सांस छोड़ना शुरू करें. ध्यान रहे कि सांस छोड़ते हुए आप अंत तक गुनगुनाते रहें

4-  जैसे ही आप पूरी सांस छोड़ देंगे तो  एक गहरी सांस लें और ज़ोर से गुनगुनाते हुए सांस छोड़ना जारी रखें

5-  इसे आप 1 मिनट के लिए करें और लगभग 15- 20 मिनट तक करें

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों की एबीपी न्यूज़ पुष्टि नहीं करता है. इनको केवल सुझाव के रूप में लें. इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें.

ये भी पढ़ें: गर्मी में दिमाग को रखना है ठंडा तो इस तेल से करें मसाज, मिलेंगे कई फायदे